Search

गुरूपुनिस व जन गुरूपेन

गुरूपुनिस व जन गुरूपेन

तौथल नेपाल भाषा

जन्त गुला टुल्ले पेटेकु वुयन
जन्त बुर्गु माँ फयन मफयन
जन्त ङिलित ,नाेन्टुईत सेन्गु
गुल्पन खप्टुकु वुयन
गुल्पन मुडेकु तयन
खि चाे हातिउ महङन
निनेस चानेस महङन
प्याटा खाउ प्वङ्गला महङन
जन्त नकेर्गु थाै प्वङ्गला च्वङन
जन्त फिकेर्गु थाै लाङ्टा च्वङन
जन्त वातिचा सिल्खम चार्सउँ
जन्त वातिचा चिकउ यर्सउँ
उथि खि सालर्सउँ
गुल्पन धामि झाँक्रि त केईत यन्गु
गुल्पन डाक्टर त केईत उन्गु
अले ज्याेतिषितउ अाखर्कि केन्गु
थाैत नईत विय नसा उ
थाै मनयन मनयन लेन्के हायन नकेर्गु
बाँलस्के स्याहार यात्कु ढाेक मि दकेर्गु
मेवस्त दुख विईमटे
मेवै हातिउ खुई मटे
फर्टुल्ले दर्टुल्ले
मेपु दुख सिउपस्त
ग्वाहार विईमल
सहयाेग यारिमल
मि जुयन जन्मैजुयन्ली
मि जुयन्तु म्वारिफईमल
थाैस्वयन ढाेक त मान्यारि मल
थाैस्वयन चिचा त मायायारि मल
उथिन उथिनतु संस्कार सेन्गु
समाजकु सक्षम जुयन म्वारित लाँ केन्गु
थाै खेउ जन माँ ,
संसारय् दखुसाेयन ढाेकमि
थाै खेउ जन माँ
थाै मफर्नसिन वासार यार्सउ
म्वात्के तई मफर्गु
थन थाैय् ख्वाल लुउन्केर्न
निस्गुर मिखालान खाेवि हार
मनतु जुयन यर अान्थिउ दिक्दार
थन गुरूपनिस हं
जन्त दखुताउ सेंगु मि
थाैतु खेङ न्हापलस्केय गूरूमां
थाै त काेटि काेटि नमन यातगि
जन मस्ति थाैय टुटिकु तरगि
माँ न लि य मेपु मि खेउ जन बाँ
बान्तु जन्त ताते ताते याङन
पाराक लेईत सेन्जु
गिथियाङन समाजकु टिकै जुईत
थाैन सयथे लाँ केन्जु
बाेन्के कान्के सक्षम दके
गुल्पन खप्टु कु बुयन
गुल्पन वाहाकु वुयन
यतिक जे सेन्केर्सउ
मबाेल्मवियन माडायन
हेके हके जे सेन्गु
थाै तु टटिय वल्न
टक्स्यारि मल हङन
यल्पलेउ हिम्मत विर्गु
बा थन थाै जन नाप मदगु
लुउन्के च्वनगि थाैत
गुलि यार्सउ थाैत म्वात्केई मफर
थन गुरू पुनिस हं
माँन लिय गुरू बातु खेङ
थन थाैय टुटिकु ब्वाक्सुङन
थाै त श्रध्दासुमन
काेटि काेटि नमन
माँ बान लिय् मि खेङ
जन्त वाेईत च्वईत सेगु गुरू
गुल्पन माया याङन गस्मुङन
गुल्पन विग्रैजुयउ हङन ख्याङन
जन रूचि,सिप ,क्षमता दखुता स्वयन
खुब रस्तार्गु अले स्याबासी विर्गु
प्रतियाेगिताकु भाग काईत छ्वयन
मुचा व्यालान नसि थन्टुल्ले
घत्के गुरूपइ नाप घत्के खाँ सेन
गुलि म्ह त लुमाेगई ध्वन
गुलिय् झल्झलियर ख्वाल हाखेन ।
थन गुरू पुनिस
थाैत जन्मविउ माँ, कर्म विउ बा
अले शिक्षा,दिक्षा ज्ञान विउ गुरू पस्त
लुउन्के लुउन्के यातगि काेटि काेटि नमन
थनय् पावन दिनकु
माँ,बा व गुरू त श्रध्दासुमन ।

गणेश कुमार श्रेष्ठ
हेटाैडा-४ चिल्ड्रेनपार्क

Written by 

Related posts

One thought on “गुरूपुनिस व जन गुरूपेन

  1. गणेश कुमारश्रेष्ठ

    सम्पादक भाजु
    स्याउदाई
    जन चिनाखँ पितयन वियकु दुं न सुभाय देछारगि।

Leave a Comment

error: Content is protected !!